Thread: आहट (Hindi)
View Single Post
  #24  
Old 6th May 2018
ishikaaa's Avatar
ishikaaa ishikaaa is offline
Rip
Visit my website
  Annual Masala Awards: Thread of the Year    Hero of Stories: Regularly posts good stories      
Join Date: 28th January 2016
Location: in a Barbie world
Posts: 76,791
Rep Power: 166 Points: 114169
ishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps database
अप्डेट -- 2


बारात आने वाली थी राधा और छबीली भी औरतों और लड़कियोन की भीड़ मे खडी हो गयी थोडी ही देर मे शोर शराबे के साथ बारात आ गयी हवा मे बताशे उडाये जाने लगे अचानक राधा को यूँ लगा जैसे उसने माधव की झलक देखी मारे खुशी के वो नाच उठी और व्याकुल होकर नदी के किनारे भागी जहाँ इन दोनो के मिलन की खूफिया जगह बनी हुयी थी



------------------------




एकांत मे भागती राधा पर बारात मे आये दो मंचले लड़कों की नजर पड़ गयी कुछ बाराती होने की ठसक कुछ राधा का उभरता यौवन उन दोनो लड्कोको उसके पीछे खींच ले गया !


राधा के कदम उन लड़कों के लंबे डग के आगे छोटे पड़ गये और बद्किस्मती से राधा और वो लड़के साथ मे नदी के किनारे पर पहुंचे राधा अचानक उन दोनो लड़को को अपने सामने देख कर घबरा गयी पर दूसरे ही पल उसकी निगाह चट्टान पर बैठे माधव पर गयी जो एक टक लगाकर नदी को घूर रहा था माधव पर नजर पड़ते ही राधा शेरनी बन दाहाड़ उठी


" अगर जान प्यारी है तो हट जा मेरे रास्ते से वर्ना आज साबुत नही लौट पायेगा अपने गाव "



" मै दर गया भाइ इस चींटी से " दोनो मे से एक लड़के ने ठाहाका लगाते हुए कहा


" हटो मेरे रास्ते से "



" हट जायेन्गे पहले अपना नाम तो बता दो "


" मै अंतिम बार कह रही हूँ कि मेरे रास्ते से हट जाओ "
राधा ने माधव की तरफ़ देखते हुए कहा उसे बहुत अचंभा हो रहा था की उसके चिल्लाने पर भी क्यू माधव पर कोइ फर्क नही पड़ रहा था


" नही तो क्या कर लेगी "
एक लड़के ने राधा की कलाइ पकडने के लिये हाथ बढाया ही था कि अगले ही पल एक जोरदार चीख के साथ वो जमीन पर बेहोश होकर गिर चुका था राधा जोर से हसने लगी जबकि दूसरा वाला लडका बौखला कर चारो तरफ़ देख रहा था अब वो लड़का राधा को नुकसान पाहुंचाने की जगह उसी के पीछे छिपने की कोशिश करने लगा और मौका देख कर भाग खडा हुआ


राधा खुशी से झूमती हुयी माधव के पास भागी ही थी कि वहाँ राधा के घर वाले और छबीली आ पहुंचे साथ मे वो दोनो बाराती लड़के थे जो अब भी डर डर कर राधा को देख रहे थे राधा ने जब अपने घर वालों को आते देखा तो घबरा कर माधव की तरफ़ देखने लगी पर अब वो जा चुका था राधा तो मुसकुरा रही थी पर छबीली के चेहरे पर गहरी चिंता की लकीरोँ को साफ़ देखा जा सकता था
______________________________

Reply With Quote
Page generated in 0.00804 seconds